Wednesday, 28 December, 2011

मिठास

उनके लबों पर क्या ख़ूब पान की  लाली रची है
    पान का पत्ता वहां भी यहाँ भी मिठास ले रहा है /

*पान का पत्ता वहां उनके मुहँ में और यहाँ हमारे दिल में **

0 comments:

Post a Comment

Twitter Delicious Facebook Digg Stumbleupon Favorites More

 
Design by Free WordPress Themes | Bloggerized by Lasantha - Premium Blogger Themes | Best CD Rates | Downloaded from Free Website Templates