Thursday 22 December 2011

आहिस्ता

एक नज़्म

ख़ाब और हकीकत में होते  है  फासले
हर बार कि तरह कहीं फिर खो न जाऊं /
बेदार अदालत में होती है बड़ी जुस्तुजू
लहर-ए-जज़्बात में कहीं फिर खो न जाऊं /

तुम्हारी त़ा'जीम-ओ-ताव्कीर ही ऊपर होगी
मेरे हमराज़ वो राज़ कबके दफ़न हो गये,
तुम यूं ही फिक्र मत किया करो मैं दोस्त था
दुश्मन तो कबके कफ़न दफ़न हो गये /

दिल बहलाने के लिए ख्यालों में रख रखा है
ये ज़िक्र-ए-दिल आहिस्ता-आहिस्ता निकले
आरज़ू आखरी ज़नाजा तेरी गली से गुजरे
नज़्ज़ारा-ए-जमाल हो रूह रफ्ता-रफ्ता निकले

जुस्तुजू : INQUIRY, लहर-ए-जज़्बात : WAVES OF EMOTION,
त़ा'जीम-ओ-ताव्कीर  : RESPECT AND HONOR
नज़्ज़ारा-ए-जमाल : SEEING A BEAUTIFUL FACE

17 comments:

ब्लॉ.ललित शर्मा said...

@आरज़ू आखरी ज़नाजा तेरी गली से गुजरे
नज़्ज़ारा-ए-जमाल हो रूह रफ्ता-रफ्ता निकले।

आशिक-ए-तमन्ना से रुबरु हुए, यह आशिक की आदिम तमन्ना है।
बेहतरीन नज्म। आभार

V G 'SHAAD' said...

thanks lalitji

Ratan Singh Shekhawat said...

बेहतरीन और लाजबाब

Datar Singh Rathore said...

वाह ! शानदार ! पढकर मजा आ गया|

chitrkar said...

बहुत खूब !

V G 'SHAAD' said...

thanks ratan singhji

V G 'SHAAD' said...

thanks rathoreji

V G 'SHAAD' said...

thanks chitrkar

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल बृहस्पतिवार 29 -12 - 2011 को यहाँ भी है

...नयी पुरानी हलचल में आज... जल कर ढहना कहाँ रुका है ?

Prakash Jain said...

Behtareen...

www.poeticprakash.com

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) said...

दिल बहलाने के लिए ख्यालों में रख रखा है
ये ज़िक्र-ए-दिल आहिस्ता-आहिस्ता निकले

बहुत खूब सर!


सादर

सदा said...

वाह ...बहुत बढि़या प्रस्‍तुति ।

vidya said...

वाह!
बहुत सुन्दर नज़्म.....

अनामिका की सदायें ...... said...

BAHUT UMDA GAZEL.

S.M.HABIB (Sanjay Mishra 'Habib') said...

नज़्ज़ारा-ए-जमाल हो रूह रफ्ता-रफ्ता निकले

क्या बात है.... शानदार नज्म...
सादर बधाई..

अरुण कुमार निगम (mitanigoth2.blogspot.com) said...

दिल बहलाने के लिए ख्यालों में रख रखा है
ये ज़िक्र-ए-दिल आहिस्ता-आहिस्ता निकले
आरज़ू आखरी ज़नाजा तेरी गली से गुजरे
नज़्ज़ारा-ए-जमाल हो रूह रफ्ता-रफ्ता निकले

बहुत खूब कसावट लिए हुए, वाह !!!

V G 'SHAAD' said...

thanks sangeetaji, prakashji yaswantji, sada, vidyaji,anamikaji, habib sahab, arunji for all your support and compliments.

Post a Comment

Twitter Delicious Facebook Digg Stumbleupon Favorites More

 
Design by Free WordPress Themes | Bloggerized by Lasantha - Premium Blogger Themes | Best CD Rates | Downloaded from Free Website Templates