Tuesday 10 January 2012

खामोश

शब्-ए-खामोश है  चाँद-सितारों के बीच
लब-ए-खामोश महफ़िल-ए-हज़ारों के बीच

बदलते अंदाज़ उनके यहाँ पानी-ए-जू कि तरह
आतिश-ए-खामोश कब तलक पत्थरों के बीच

सीने में हर हम्द के उसका चेहरा बुने जाता
मानी-ए-खामोश मिले शायद इन रहगुज़रों के बीच

नियत-ए-इबादत-ओ-खिदमत-ए-खुदा भी है
निगाह-ए-खामोश खड़ा फिर भी कतार्रों के बीच

साथ चले थे एक ही मंजिल कि और शाद-शाद
बेरुखी-ए-खामोश अब है हम-सफ़ीरों के बीच


शब्-ए-खामोश : silent night
लब-ए-खामोश : silent lips
पानी-ए-जू : flowing water of river
आतिश-ए-खामोश : strong emotion that one do not able to fully express
मानी-ए-खामोश : salient meaning/sense
रहगुज़रों : passage
नियत-ए-इबादत-ए-खुदा-ओ-खिदमत : intention of prayer of God and duties
शाद-शाद : happy-happy
बेरुखी-ए-खामोश : silent indifference
हम-सफ़ीरों : co-inhabitant

 

1 comments:

संध्या शर्मा said...

साथ चले थे एक ही मंजिल कि और शाद-शाद
बेरुखी-ए-खामोश अब है हम-सफ़ीरों के बीच

वाह... बहुत खूब... लिखते रहिये...

Post a Comment

Twitter Delicious Facebook Digg Stumbleupon Favorites More

 
Design by Free WordPress Themes | Bloggerized by Lasantha - Premium Blogger Themes | Best CD Rates | Downloaded from Free Website Templates